गौतम अडानी के फर्श से अर्श तक पहुंचने की कहानी | Story of Gautam Adani in hindi

Spread the love

Rate this post

आप रिलायंस इंडस्ट्रीज और उसके धनकुबेर मालिक मुकेश अंबानी की बेइंतेहा कमाई के बारे में तो जानते होंगे। लेकिन आज हम आपको गुजरात के एक ऐसे शख्स की कहानी बताएंगे जो दौलत के मामले में अंबानी को भी टक्कर दे रहा है। 

हर दिन नए नए बेंचमार्क सेट कर रहा है और न सिर्फ भारत में बल्कि पूरी दुनिया में अपना दबदबा बना रहा है। जी हां, सही समझे आप। हम बात कर रहे हैं। 

भारत के मशहूर बिजनेसमैन गौतम Adani की जिन्हें एक वक्त था जब आर्थिक तंगी के कारण पढ़ाई छोड़नी पड़ी थी। लेकिन आज एयरपोर्ट से लेकर बंदरगाह और कोयले से लेकर घर में इस्तेमाल होने वाले तेल तक से पैसा कमा रहे हैं। 

लेकिन कम ही ऐसे लोग हैं जो इनके बारे में बहुत ज्यादा जानते हैं तो जनाब भी गौतम Adani की कामयाबी का राज जानना चाहते हैं। तो फिर बिना वीडियो स्किप किए हमारे साथ देखिए उनकी जिंदगी और व्यापार का सफरनामा। 

गौतम Adani यूं तो रिलायंस इंडस्ट्रीज के संस्थापक धीरूभाई अंबानी की ही तरह पहली पीढ़ी के बिजनेसमैन हैं, लेकिन आज उनकी नेट वर्थ बाकी उद्योग पतियों से कहीं ज्यादा है क्योंकि एक डायलॉग है जिसे Adani ने सिद्ध साबित किया है। 

वो है कोई धंधा छोटा या बड़ा नहीं होता और धंधे से बड़ा कोई धर्म नहीं होता। अब हम ऐसा इसलिए कह रहे हैं क्योंकि समय के साथ Adani को जो भी धंधा मिला। उन्होंने उसे पूरे मन से किया और परचम लहराते चले गए। 

लेकिन उनके फर्श से अर्श तक पहुँचने का सफर काफी जद्दोजहद भरा रहा है। उनका जन्म सन् 1962 में अहमदाबाद के एक आर्थिक रूप से कमजोर परिवार में हुआ।

पिता का छोटा सा काम था, लेकिन कुछ खास चल नहीं रहा था। ऐसे में वक्त के साथ आर्थिक हालत और बिगड़ते चले गए, जिसकी वजह से गौतम Adani को अपनी पढ़ाई बीच में ही छोड़नी पड़ी और काम के लिए हाथ पैर मारने पड़े। 

इसी बीच वो बड़े शहर से बड़ी उम्मीदें लेकर कम उम्र में ही मुम्बई आ गए, जहां शुरूआत में तो काफी संघर्ष करना पड़ा, लेकिन कुछ वक्त के बाद उन्हें एक डायमंड सप्लायर के यहां नौकरी मिल गई। तीन सालों तक काम करने के बाद उन्हें समझ में आया कि जिन्दगी में करना क्या है। 

इसलिए उन्होंने नौकरी छोड़कर अपना काम शुरु किया और जावेरी बाजार में डायमंड ब्रोकरेज कंपनी की शुरुआत की। गौतम Adani को अपनी जिंदगी का वायर पता था। 

यानी वो काम क्यों कर रहे हैं। इसलिए उन्होंने जी तोड़ मेहनत की और कम उम्र में ही धंधा दौड़ा दिया, लेकिन उनकी किस्मत चमकी। 1981 से जब उनके बड़े भाई ने उन्हें अहमदाबाद बुलाया। 

दरअसल भाई ने सामानों को लपेटने वाली प्लास्टिक की कंपनी खरीदी, मगर वो चल नहीं रही थी क्योंकि जो कच्चा माल चाहिए था वो जरूरत के हिसाब से नहीं मिल पा रहा था। 

बाहर देशों से कच्चे माल को इम्पोर्ट करना पड़ रहा था। ऐसे में इसे एक अवसर के तौर पर देखते हुए Adani ने कांडला पोर्ट पर प्लास्टिक ग्रानोलर्स का आयात शुरु किया और 1988 में शुरू की Adani एक्सपोर्ट्स जिसका नाम बदलकर बाद में Adani इंटरप्राइजेज कर दिया गया। 

इसमें धातु, एग्रीकल्चर, प्रोडक्ट और कपड़े की कमोडिटी ट्रेडिंग होती थी। काम चल पड़ा तो कुछ ही साल में ये कंपनी और Adani इस बिजनेस से बड़ा नाम बन गए और फिर 1994 में Adani इंटरप्राइजेज को शेयर बाजार में लिस्ट कर दिया गया। 

फिर साल आया 1995 का ये वो साल था जिसने आज उनके इस मुकाम तक पहुंचने की नींव रखी क्योंकि इस वक्त गुजरात सरकार पोर्ट डेवलपमेंट के लिए प्राइवेट कंपनीज की तलाश कर रही थी। 

ऐसे में जैसे ही ये खबर Adani तक पहुंची उन्हें कमाई का एक और सोर्स नजर आया। इसलिए उन्होंने गुजरात के सबसे बड़े बंदरगाह मुंद्रा पोल को ही खरीद दिया। मुद्रा बोर्ड को खरीदने के बाद 1998 में गौतम Adani ने Adani पोर्ट्स एंड लॉजिस्टिक्स कंपनी की शुरुआत की। 

वैसे ये बंदरगाह की खासियत के बारे में बताएं तो करीब 8000 हेक्टेयर में फैला। ये पोर्ट आज भारत का सबसे बड़ा निजी बंदरगाह है और इस बोर्ड से पूरे भारत के लगभग एक चौथाई माल की आवाजाही होती है। 

साथ ही ये जगह स्पेशल इकनॉमिक जोन के तहत बना है तो प्रमोटर कंपनी को कोई टैक्स भी नहीं देना पड़ता। इस जोन में पावर प्लांट प्राइवेट रेललाइन लाइन और एक प्राइवेट एयरपोर्ट भी है। वैसे यहां गौर करने वाली बात है कि आज Adani समूह देश के प्रमुख इन्फ्रास्ट्रक्चर ग्रुप में से एक है। 

उनकी Adani पोर्ट्स देश की सबसे बड़ी पोर्ट मैनेजमेंट कंपनी है और गुजरात, महाराष्ट्र, गोवा, केरल, आंध्र प्रदेश, तमिलनाडु और ओडिशा जैसे सात समुद्री राज्यों में इनके 13 डोमेस्टिक पोर्ट्स हैं। खैर मुद्दे पर आते हैं। 

अब जैसे जैसे वक्त गुजरता गया Adani खुद को ग्रो करते चले गए। वो लोगों की रसोईयों तक में पहुंच गए। फॉर्च्यून के थ्रू वही फॉर्च्यून जिसका रिफाइन डॉयल आज हर घर में सुबह शाम दिन रात इस्तमाल होता है। 

एक्चुअली जनवरी 1999 में Adani ग्रुप ने विंध्यगिरि बिजनेस ग्रुप विलमार के साथ हाथ मिलाकर खाने के तेल के बिजनेस में कदम रखा था। 

वैसे फॉर्च्यून तेल के अलावा Adani ग्रुप, आटा, चावल, दाल, चीनी जैसी दर्जनों चीजों से भी आपकी रसोई का हिस्सा बना हुआ है, जिनके रख रखाव के लिए दो हज़ार 5 में Adani ग्रुप ने फूड कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया के साथ मिलकर अलग अलग। राज्य में बड़े बड़े साइलोज बनाए। 

सालों से बेसिकली वो चीज होती है जिसने बड़े पैमाने पर अनाज को रखा जाता है। सालों उसकी कनेक्टिविटी के लिए Adani ग्रुप ने निजी रिलायंस भी बनाई ताकि अनाज को लाने ले जाने में आसानी हो। कहते हैं कि हीरे की परख जौहरी ही जानता है, इसलिए Adani को काले कोयले में भी पैसा दिखा। 

उन्होंने डोमेस्टिक इलेक्ट्रिसिटी का जनरेशन किया। बड़े बड़े राज्यों को बिजली सप्लाय करनी शुरू की, लेकिन इतने बड़े पावर प्लांट को चलाने के लिए जरूरत से ज्यादा कोयला चाहिए था। इसलिए दिमाग चलाया और ऑस्ट्रेलिया की एक कोल माइन को खरीद डाला। 

फॉर्च्‍यून इंडिया मैगजीन के मुताबिक दो हज़ार 10 में Adani ने लिंक एनर्जी से 12 हज़ार 100 470000000 में कोयला खदान खरीदी थी। गीली बेस 20 साल में मौजूद इस खदान में सात पॉइंट आठ बिलियन टन के खनिज भंडार हैं, जो हर साल 60 मिलियन टन कोयला पैदा कर सकती है।

इसी तरह इन्फ्रास्ट्रक्चर की कमी से इंडोनेशिया में मौजूद तेल गैस और कोयले के लिए Adani ग्रुप ने साउथ सुमात्रा से कोयला ढुलाई के लिए 3 अरब डॉलर निवेश करने की घोषणा की। 

उस समय इंडोनेशिया निवेश बोर्ड ने बताया था कि Adani समूह 5 करोड़ टन की क्षमता वाले एक कोल हैंडलिंग पोर्ट का निर्माण करेगा और साउथ सुमात्रा आइलैंड की खदानों से कोयला निकालने के लिए ढाई 100 किलोमीटर रेल लाइन बिछाएगा। 

खैर Adani अपना कारोबार फैलाते गए और पैसा अकाउंट में आता चला गया। जिस Adani साम्राज्य का कारोबार दो हज़ार 2 में 76 पॉइंट 5 करोड़ डॉलर था, वो दो हज़ार 14 तक आते आते बढ़ कर 10 अरब डॉलर हो गया। 

साथ ही वक्त की जरूरत को देखते हुए Adani ग्रुप ने नैचुरल गैस के क्षेत्र में भी बिजनेस को बढ़ाया और दो हज़ार 17 में सोलर पीवी पैनल बनाने शुरु किए। 

उधर, बंदरगाह और निजी रेल लाइन के बाद Adani ने एयरपोर्ट की तरफ उड़ान भरी और दो हज़ार 19 में अहमदाबाद, लखनऊ, बंगलुरु, जयपुर, गुवाहाटी और तिरुवनंतपुरम जैसे छह हवाई अड्डों के मॉर्डनाइजेशन और ऑपरेशन की जिम्मेदारी उठा ली। 

अब अगले 50 सालों तक Adani ग्रुप इन सभी एयरपोर्ट्स का ऑपरेशन मैनेजमेंट और डेवलपमेंट संभालेगा। वहीं मुंबई इंटरनैशनल एयरपोर्ट लिमिटेड में भी Adani ग्रुप के पास सेवेन टी फोर प्रोजेक्ट की हिस्सेदारी है और ये किसी को बताने की जरूरत नहीं कि भारत ने मुम्बई एयरपोर्ट दिल्ली के बाद देश का सबसे बड़ा एयरपोर्ट है। 

वैसे जिस तरह सुंदर आकार लेने से पहले सोने को खूब तपाया जाता है, ठीक उसी तरह गौतम Adani को भी जीवन में कई तरह का ताप झेलना पड़ा। 

उनका सामना कई तरह के विवादों से हुआ, लेकिन उन्होंने सब से पार पाया और एक अलग मुकाम हासिल किया। जिसका नतीजा है कि आज गौतम Adani का कारोबार पूरी दुनिया में फैला हुआ है 


Spread the love

Leave a Comment